You are currently viewing Data science kya hai in hindi | What is Data science
Data science kya hai

Data science kya hai in hindi | What is Data science

  • Post last modified:June 6, 2021
  • Reading time:1 mins read
Data science kya hai in hindi
Data Science डेटा का विश्लेषण करके उनसे जानकारी निकालने का विज्ञान है। यह कंप्यूटर विज्ञान का एक भाग है। Data Science गणित, सांख्यिकी, सूचना सिद्धान्त, सूचना प्रौद्योगिकी आदि अनेकों क्षेत्रों के सिद्धान्तों तथा तकनीकों का प्रयोग करता है।

Data science kya hai

नाम से ही पता चल रहा है इसमें  डेटा(Data) के आंकलन(assessment), गणना (calculation) और प्रभावों का विश्लेषण(analysis) किया जाता है। इसके लिए स्किल्ड प्रफेशनल्स की जरुरत होती है। इसके लिए Programming, Statistics, Data Visualization, Machine Learning, Linear Algebra और calculus, software engineering आदि  स्किल्स का होना जरूरी है। (data science kya hai in hindi) डेटा साइन्स जिनको आता है उनकी आज के जमाने में काफी value है क्योंकि Data science पर काफी companies निर्भर हैं। ज्यादा मात्रा में डेटा की छान बिन करने से हमे काफी काम की चीज़ें मिल जाती हैं और फिर उसमे से हम काम के डेटा को इकट्ठा करके अपने काम के लिए रख लेते हैं।

Data science की आवश्यकता 

जैसे-जैसे दुनिया बड़े डेटा के युग में प्रवेश कर रही है, इसकी storage capacity की आवश्यकता भी बढ़ी है। जब Hadoop और अन्य Framework ने स्‍टोरेज की समस्या को सफलतापूर्वक हल कर लिया है, तो फोकस इस डेटा के प्रोसेसिंग पर आ गया है। पहले जो  हमारे पास डेटा था, वह अधिकतर structured था, जिसे सरल BI टूल का use करके analysis  किया जा सकता था। आज ज्यादातर डेटा unstructured या semi – structured है।

Data science का उपयोग कैसे किया जा सकता है। अब एक उदाहरण के रूप में मौसम पूर्वानुमान (weather forecast) लेते हैं। जहाजों, एयरक्राफ्ट, रडार, उपग्रहों से डेटा एकत्रित किया जा सकता है और मॉडल बनाने के लिए analysis किया जा सकता है। ये मॉडल न केवल मौसम का पूर्वानुमान करेंगे बल्कि किसी भी  natural calamity की घटना की भविष्यवाणी करने में भी मदद करेंगे।

Data Scientist kya hai

जब किसी कंपनी के बिज़नेस में डेटा बढ़ता है वैसे Data scientist की companies में जरूरत पड़ने लगती है और उन्हे डेटा को सही से रखने और उसकी सही से रिपोर्ट बनाने के लिए रखा जाता है। जिससे की कंपनी इस डेटा को बेच सके और कुछ लाभ कमा सके और company ki progress हो पाए।

Data scientist  का प्रमुख काम रॉ डेटा ( raw data) को व्यवस्थित करना होता है। सामान्य रूप से डेटा को अव्यवस्थित डेटा में से निकालना होता है और उसे व्यवस्थित करना होता है जिससे की वह डेटा आगे इस्तेमाल हो सके। प्रभावी होने के लिए Data scientist के अंदर शिक्षा के साथ साथ भावुक बुद्धि और Data analytics का ज्ञान भी भरपूर होना चाहिए। 

Data scientist  को Machine learning, data mining, analytics आदि का ज्ञान भरपूर होता है और Coding और Algorithm लिखना भी बखूबी आता है। Data scientist डिजिटल जानकारी को चैनल और स्त्रोतों से बनाते हैं जैसे की स्मार्ट फोन इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IOT) डिवाइस, सोशल मीडिया, सर्वे, इंटरनेट सर्च, खरीददारी। Data scientist बहुत सारे डेटा सेट्स में से ऐसे पैटर्न को निकालते हैं।

Data scientist का काम डेटा को कैप्चर करना है। जिसके लिए Programming skills और Database skills की जरूरत होती है। Data scientist state और Maths tool के जरिए डेटा का विश्लेशण करता है। इसको वह Power point, excel, google globalization के जरिए प्रस्तुत करता है। लेकिन डेटा को वह एक कहानी के जरिए जोड़ते हुए बयां करता है। 

Data analysis

वो सभी तरीके जिससे आप डेटा को तोड़ सकते हैं, समय के साथ रुझान का आकलन कर सकते हैं, और एक सेक्टर या माप को दूसरे की तुलना कर सकते हैं, वह data analysis कहलाता हैं। लेकिन, आज इतना डेटा उपलब्ध है कि डेटा Analysis एक चुनौती है। अर्थात्, सभी डेटा को संभालना और पेश करना डेटा Analysis के सबसे चुनौतीपूर्ण पहलुओं में से दो हैं। डेटा विश्लेषण निर्णय को अधिक वैज्ञानिक बनाने और व्यवसाय को प्रभावी संचालन करने में मदद करता है। इसका उपयोग विभिन्न व्यवसाय, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान डोमेन में किया जा रहा है।

Data science के उपयोग

Data science के फायदे company के goals और resources पर भी depend करता हैं कि company किस तरह का काम करती है और किस तरह से resources को इस्तेमाल करती है। सेल्स और मार्केटिंग डिपार्टमेंट पर भी कंपनी का फायदा निर्भर करता है। Example के तौर पर हम यह देख सकते हैं की कुछ company users  के डेटा को खरीदती हैं और analysis करती  हैं।डेटा को सही तरीके से समझा जाता है और उसके बाद उसकी उचित रिपोर्ट बनायी जाती है और फिर कंपनी में इसका पूरा विचार विमर्श होता है, जिससे की इस डेटा को प्रभावी बनाया जा सके। यह campaign करने में भी काफी उपयोगी होता है।

मशीन लर्निंग की चीज़ें भी डेटा साइन्स में उपयोग होती हैं जैसे की इमेज रेकोगनिशन (image recognition) और स्पीच रेकोगनिशन (speech recognition)।

Data science के फायदे

डेटा साइन्स बिज़नेस के decision लेने में काफी काम आता है। यह डेटा को बड़े ही सही तरीके से use करता है और उसे useful बनाता है जिससे की हम उसे use कर सकें।डेटा से जो हम decision लेते  हैं वह हमे काफी लाभ देता है और काम करने की capability को भी बढ़ा देता है।

Data scientist कैसे बने  – Data science kya hai

Data scientist का पेशा तेजी से उभरने और बढ़ने वाला क्षेत्र है। आज हर बड़ी कंपनी और सरकारी संगठनों में Data scientist की मांग है। आज के हाइटडेक वर्ल्ड में असीमित मात्रा में डेटा मौजूद है जिसे इकट्ठा करना, इसमें से काम का डेटा निकालना और इस डेटा का अपने लिए किस तरह उपयोग किया जाए सबसे बड़ा सवाल है। इन्हीं सवालों के सारे जवाब एक Data scientist के पास होते हैं। यह काम थोड़ा पेचीदा माना जाता है लेकिन इसके अनुसार डेटा साइंटिस्ट को भुगतान भी किया जाता है।

Data scientist बनने के लिए किसी भी व्यक्ति के पास Computer Science, Maths, Electrical Engineering, IT या इससे संबंधित फील्ड में Bachelor की डिग्री होना जरूरी है। इसके बाद आप काम करते हुए Masters की डिग्री के लिए आवेदन कर सकते हैं। भारत में कई यूनिवर्सिटी डेटा साइंस में एमटेक करवाती हैं जो डिस्टेंस लर्निंग में भी उपलब्ध है।

अगर आपमें विश्लेषण और कहानी कहने का स्किल है तो आपके लिए Data scientist की नौकरी पर्फेक्ट है. जिन कैंडिडेट्स ने मैथ्स, कंप्यूटर साइंस, मेकेनिकल इंजीनियरिंग में एमटेक या एमएस किया है वो Data scientist बन सकते हैं. इसके साथ ही कैंडिडेट्स को Python, Java, R, SAS प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की भी नॉलेज होनी चाहिए. अधिकतर कंपनियां कॉम्पिटिशन में आगे बने रहने के लिए Data scientist की मदद लेती हैं. ये साइंटिस्ट रिजल्ट्स का बड़ी बारीकी से Analysis करते हैं।

Leave a Reply